Saturday, September 17, 2022

Shab-e-Barat 2022 kab hai | शब-ए-बारात की इबादत रात्रि में क्यों की जाती है? इसके पीछे की मान्यता ।

Shab-e-Barat 2022 kab hai: शब-ए-बारात इस्लामिक कैलंडर के अनुसार शाबान महीने की 14वीं और 15वीं रात को मनाते है। इस वर्ष यह त्योहार 18 मार्च और 19 मार्च को मनाया जायेगा। शब-ए-बारात मुस्लिम समुदाय द्वारा दुनिया भर में मनाया जाना वाला सबसे लोकप्रिय त्योहार है। इसे इबादत का त्योहार माना जाता है, सभी लोग रात में इबादत पढ़ते है। पूरी जानकारी के लिए पोस्ट को पूरा पढ़े।

Read Also:- International Women’s day in Hindi | कब मनाया जाता है अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस 2022, इतिहास, निबन्ध, जाने इस बार की थीम।

Shab-e-Barat 2022 kab hai (शब-ए-बारात)

शब-ए-बारात पूरी दुनिया में मुस्लिम समुदाय के लिए एक महत्वपूर्ण त्योहार है। जिसे मुस्लिम समुदाय द्वारा बड़ी धूम-धाम से मनाया जाता है। शब-ए-बारात इस्लामिक कैलेंडर के अनुसार शाबान महीने की 14वीं और 15वीं रात को मनाया जाता है। इस दिन रात में इबादत पढ़ी जाती है। यह दो नामों से मिलकर बना है- “शब” का अर्थ रात, “बारात” का अर्थ मासूमियत होता है। लोग इस दिन अपने करीबियों और दोस्तों की कब्रा पर जाकर उनके लिए दुआ मांगते है। शब-ए-बारात के मौके पर कई मुसलमान भाई दो दिन का रोजा रखते है।

Shab-e-Barat 2022 in India

इस वर्ष शब-ए-बारात 18 मार्च, और 19 मार्च 2022 को मनाया जायेगा। सुबह तक कुरान पढ़ते थे। वे अपने मृत परिवारों के लिए क्षमा मांगने के लिए कब्रों का भी दौरा करेंगे।

Shab-e-Barat 2022 kab hai
Shab-e-Barat 2022 kab hai

मान्यता ये है शब-ए-बारात में इबादत करने वाले सभी लोगों के सारे गुनाह माफ हो जाते हैं। इसलिए लोग पूरी रात जागकर शब-ए-बारात में अल्लाह को याद करते हैं और अपने किए की माफी मांगते हैं। कहा जाता है कि अल्लाह इस रात जिनके गुनाहों की माफी देते हैं उनके जन्नत के दरवाजे खोल देते हैं।

Shab-e-Barat 2022 Bangladesh

इस वर्ष शब-ए-बारात 18 मार्च, और 19 मार्च 2022 को मनाया जायेगा। बांग्लादेश में यह त्योहार बड़ी धूम-धाम से मनाया जाता है। लोग अपने रिस्तेदारों और दोस्तों की कब्रा पर जाते है क्षमा मांगते है। यहां इस दिन सार्वजनिक अवकाश भी दिया जाता है।

Shab-e-Barat 2022 date in Pakistan

इस वर्ष शब-ए-बारात 18 मार्च, और 19 मार्च 2022 को मनाया जायेगा। पाकिस्तान में मुसलमान विशेष रात की नमाज अदा करने के लिए जागते थे और सुबह तक कुरान पढ़ते थे। वे अपने मृत परिवारों के लिए क्षमा मांगने के लिए कब्रों का भी दौरा करेंगे। शब ए बारात के दौरान जरूरतमंद लोगों को दान भी दिया जाता है।

FAQ’s

Q. शब-ए-बारात 2022कब है?

Ans: 18 March and 19 March

Read Also:-

National Vaccination day in Hindi | राष्ट्रीय टीकाकरण दिवस 2022, जाने इसका इतिहास और क्या है महत्व

Urfi Javed ने मुस्लिम कट्टरपंथियों को जम कर सुनाया|Tight slap by Urfi Javed on da face of some extremists

No Smoking day 2022 in Hindi | धूम्रपान करना स्वास्थ्य के लिए कितना खतरनाक है। धूम्रपान शरीर के लिए धीमा जहर है।

Experienced Content Writer with a demonstrated history of working in the education management industry. Skilled in Analytical Skills, Hindi, Web Content Writing, Strategy, and Training. Strong media and communication professional with a B.sc Maths focused in Communication and Media Studies from Dr. Ram Manohar Lohia Awadh University, Faizabad.

Related Articles

Leave a Reply

Stay Connected

22,342FansLike
3,485FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

Latest Articles