Rajasthan Diwas 2022 | Rajasthan Diwas kab manaya jata hai , क्या है राजस्थान का इतिहास और कब हुई थी स्थापना

Rajasthan Diwas kab manaya jata hai: हर वर्ष 30 मार्च को राजस्थान दिवस मनाया है। राजस्थान को वीरों की धरती कहा जाता है। 30 मार्च, 1948 को जैसलमेर, जोधपुर, जयपुर और बीकानेर रियासत को मिलकर एक वृहत्तर राजस्थान संघ की स्थापना की गयी।

Read Also:- Kiara Advani Biography | Indoo ki Jawani

Rajasthan Diwas kab manaya jata hai (राजस्थान दिवस)

हर वर्ष 30 मार्च को राजस्थान दिवस मनाया जाता है। राजस्थान की स्थापना 30 मार्च, 1948 जोधपुर, जयपुर, जैसलमेर और बीकानेर रियासत को मिलाकर एक वृहत्तर राजस्थान संघ बना था।

राजस्थान का अर्थ “राजाओं का स्थान” होता है। क्योंकि यहाँ जाट, गुर्जर, मौर्य शासक ने राज किया। राजस्थान का इतिहास काफी पुराना है, यहां पर सबसे पहले चोल राजाओं ने शासन किया था। उसके बाद गुर्जर, प्रतिहार तथा जाटों ने शासन किया। आज़ादी से पहले राजस्थान में कई रियासतें थी। जिसे भारत की आज़ादी की घोषणा के बाद से ही राजपूताना के देशी रियासतों से स्वतंत्रता पाने की होड़ सी लग गयी।

भारत को जोड़े का कार्य सरदार वल्लभ भाई ने किया था। सरदार वल्लभ भाई के सहयोगी वी.पी. मैनन थे। जब भारत अंग्रेजों से आज़ाद हुआ तब राजस्थान में 22 राजपूताना रियासतें थी। इसमें अजमेर और मेरवाड़ा को छोड़कर शेष देशी रियासतें थी।

राजस्थान को सात चरणों में विलय किया था। इसकी शुरुआत 18 अप्रैल 1948 को अलवर, भरतपुर, धौलपुर और करौली रियासतों के विलय से हुई। अंत में 30 मार्च 1949 को जोधपुर, जयपुर, जैसलमेर और बीकानेर रियासतों के विलय से “वृहत्तर राजस्थान संघ” बना इसीलिए 30 मार्च को राजस्थान दिवस मनाया जाता है।

राजस्थान दिवस का महत्व Rajasthan Diwas kab manaya jata hai

इस दिन राजस्थान पर्यटन विभाग द्वारा कई कार्यक्रम का आयोजन किया जाता है। सबसे अच्छा कार्यक्रम जयपुर में आयोजित किया जाता है जयपुर को गुलाबी नगरी का शहर कहा जाता है। इस दिन राजस्थान का लोक नृत्य घूमर का आयोजन किया जाता है।

 Rajasthan Diwas kab manaya jata hai
Rajasthan Diwas kab manaya jata hai

राजस्थान दिवस मनाने का उद्देश्य लोगों को राजस्थान की विरासत के बारे में जागरूक करना और इसके महत्व को बताना है साथ ही इसकी विरासत को बचाना है।

राजस्थान का प्रथम नाम क्या था?

आजादी से पहले राजस्थान का नाम राजपूताना था। यह नाम 1800 ई. में ब्रिटिश गवर्नर जार्ज थॉमस ने दिया था। कर्नल जेम्स टॉड ने 1829 ईसा में अपनी पुस्तक ‘द एनाल्स एंड एक्टीविटीज ऑफ राजस्थान‘ में किया। कर्नल जेम्स टॉड ने राजस्थान को दी सेन्ट्रल वेस्टर्न राजपूत स्टेट्स ऑफ इंडिया कहा है।

राजस्थान का प्रथम शासक कौन था?

राजस्थान के पहले ऐतिहासिक चाहमान के राजा वासुदेव शासक था। यह क्षेत्र मत्स्य राज्य के नाम से जाना जाता है। वैसे पहला शासक चन्द्रगुप्त मौर्य थे। जिन्होंने ने मौर्य वंश की स्थापना की थी। जिनका साम्राज्य अफगानिस्तान और फारस की सीमा से लेकर पूरे भारत में था।

राजस्थान का अंतिम हिन्दू शासक कौन था?

राजस्थान का अंतिम हिन्दू शासक पृथ्वीराज चौहान थे। वे वीरों के वीर कहा जाता है एक बार उन्होंने शेर के जबड़े को भी फाड़ दिया था। पृथ्वीराज चौहान की दोनों आँखें न होने पर भी मुहम्मद गोरी की हत्या कर दी थी। पृथ्वीराज चौहान के बारे में कहा जाता है कि शब्द भेदी बाण चलाना जानते थे। जिससे उन्होंने मुहम्मद गोरी की हत्या की थी।

राजस्थान की स्थापना कब की गयी थी?

राजस्थान की स्थापना 30 मार्च 1949 को की गयी थी। राजस्थान को कई छोटी-छोटी रियासतों को मिलाकर एक बृहत राजस्थान संघ की स्थापना की गयी थी।

ये भी पढ़ेः-

Yogi Minister’s list 2022 | योगी ने लगातार दूसरी बार ली मुख्यमंत्री पद की, केशव प्रसाद मौर्य और बृजेश पाठन ने ली उप मुख्यमंत्री की शपथ

Under-19 World Cup Final 2022: भारत ने पाँचवीं बार अंडर-19 वर्ल्ड कप खिताब अपने नाम किया। बाना ने धोनी तरह जिताया U19 WC

Urfi Javed ने मुस्लिम कट्टरपंथियों को जम कर सुनाया|Tight slap by Urfi Javed on da face of some extremists

Experienced Content Writer with a demonstrated history of working in the education management industry. Skilled in Analytical Skills, Hindi, Web Content Writing, Strategy, and Training. Strong media and communication professional with a B.sc Maths focused in Communication and Media Studies from Dr. Ram Manohar Lohia Awadh University, Faizabad.

Related Articles

Leave a Reply

Stay Connected

22,342FansLike
3,319FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

Latest Articles