Sunday, November 28, 2021

World Population day 2021 in Hindi | विश्व जनसंख्या दिवस 2021 | speech, slogans, theme in hindi

World Population day 2021 in Hindi | जनसंख्या दिवस क्यों मनाया जाता है। थीम क्या है? जनसंख्या दिवस इतिहास क्या है? इस सब जानकारी के लिए इस पोस्ट को पूरा पढ़े।

विश्व जनसंख्या दिवस 2021 प्रत्येक वर्ष की तरह इस वर्ष भी 11 जुलाई को मनाया जायेगा। विश्व जनसंख्या दिवस मनाने का सबसे बड़ा कारण है लोगों को जागरूक करना है। विश्व में बढ़ती जनसंख्या को देखते हुए विश्व जनसंख्या दिवस को मनाने की घोषणा की गयी थी। 11 जुलाई 2021 को प्रत्येक वर्ष की तरह विश्व जनसंख्या दिवस मनाया जायेगा। इस बार 29 वां विश्व जनसंख्या दिवस मनाया जा रहा है।

World Population day 2021 in hindi theme

प्रत्येक वर्ष की तरह इस वर्ष की थीम (theme) – अधिकार और विकल्प उत्तर हैं: चाहे बच्चे में उछाल हो या बस्ट, प्रजनन दर में बदलाव का समाधान सभी लोगों के प्रजनन स्वास्थ्य और अधिकारों को प्राथमिकता देना है। (Rights and Choice The answers are: Whether it’s a baby boom or bust, the solution to changing fertility rates is to prioritize the reproductive health and rights of all people.)

World Population day 2021 in Hindi
World Population day 2021 in Hindi

जनसंख्या दिवस निबंध Population day Essay

जनसंख्या का अर्थ होता है कि किसी सीमित क्षेत्र में रहने वाले लोगों का घनत्व होता है। घनत्व एक वर्ग किलोमीटर के अन्दर रहने वाले लोगों को दर्शाता है। जब किसी विशेष क्षेत्र की जनसंख्या तेजी से बढ़ने लगती है, तो उसे उस क्षेत्र का जनसंख्या वृद्धि कहते है। जब यह जनसंख्या पूरे देश या विश्व में बढ़ने लगती है। इसे देश या विश्व की जनसंख्या वृद्धि कहते है। जब जनसंख्या वृद्धि को प्रतिशत देखी जाती है तो उसे जनसंख्या वृद्धि दर करते है। जैसे कि विश्व की जनसंख्या वृद्धि दर 1.1% है।

इसी प्रकार भारत की जनसंख्या वृद्धि दर 2.2% है। किसी देश की जनसंख्या वृद्धि का अनुमान आप ऐसे लगा सकते है। जब किसी क्षेत्र में युवाओं को नौकरी के लिए भटकने लगे या किसी परिवार को दो वक्त की रोटी के लिए काफी कठिनाई का सामना करना पड़े तो निश्चित ही उस देश की जनसंख्या तेजी से बढ़ने लगी है।

प्रत्येक वर्ष 11 जुलाई को विश्व जनसंख्या दिवस मनाया जाता है। अगर मैं अप्रैल 2021 डेटा के अनुसार विश्व की जनसंख्या 8.2 अरब है। जिसमें 1,383,541,278 के साथ चीन पहले स्थान पर है। वही भारत 131 करोड़ के साथ दूसरे स्थान पर है। किन्तु भारत की जनगणना 2011 में हुई धी। उस समय भारत की जनसंख्या 121 करोड़ थी। लेकिन कोरोना के कारण 2021 की जनगणना अभी शुरु नहीं हुई।

भारत की जनसंख्या का अनुमान वृद्धि दर के आधार पर लगाया जा रहा है। भारत का भी जनसंख्या विस्फोट में महत्वपूर्ण योगदान है। विश्व को जनसंख्या नियंत्रण कानून लाना चाहिए। जिससे देश में जनसंख्या नियंत्रित हो सके।

विश्व जनसंख्या दिवस का इतिहास (History of World Population Day)

विश्व जनसंख्या दिवस मनाने का मुख्य उद्देश्य विश्व में बढ़ती आबादी के प्रति लोगों को जागरूक करना है। वर्तमान में बढ़ती आबादी के दुष्प्रभावों और इससे अन्य मुद्दे पर ध्यान केन्द्रित करना महत्वपूर्ण होता है। इसी दिन को संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम ने 1989 को जनसंख्या दिवस के रूप में मनाने की घोषणा की।

इस दिन का निर्धारण संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम के तत्कालीन गवर्निंग काउंसिल द्वारा किया गया था। 11 जुलाई को जनसंख्या दिवस मनाने का सुझाव डॉक्टर केसी जैक्रियाह (Dr KC Zachariah) ने दिया था उन्होंने 11 जुलाई 1987 को विश्व की जनसंख्या 5 बिलियन तक पहुंचने का आकड़ा बताया था।

उस समय केसी जैक्रियाह वर्ल्ड बैंक में सीनियर डेमोग्राफर पर कार्यरत थे। इस पर निर्धारण संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम ने जाँच और विचार करके दो वर्ष बाद यानि कि 11 जुलाई 1989 को विश्व जनसंख्या दिवस मनाने की घोषणा की। 11 जुलाई 1989 को पहला विश्व जनसंख्या दिवस मनाया गया।

1987 तक विश्व की आबादी 5 बिलियन पहुंचने के बाद संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम ने इस दिन को अवकाश घोषित करने की घोषणा की। जिससे लोगों को जनसंख्या नियंत्रण के प्रति जागरूक किया जा सके। तथा इसके दुष्प्रभावों की ओर ध्यान आकर्षित किया जा सके। इसी कारण 1989 से विश्व जनसंख्या दिवस मनाना शुरु किया गया।

World Population day 2021 in Hindi
World Population day 2021 in Hindi

Objects of World Population (विश्व जनसंख्या दिवस का उद्देश्य)

लगभग तीन दशकों से मनाये जाने वाले दिवस का उद्देश्य विश्व जनसंख्या जन्म दर को नियंत्रित करना तथा लोगों को इसके प्रति जागरूक करना है। जनसंख्या वृद्धि जैसी अनियमिता के प्रति लोगों सजग करना है।

वर्तमान समय में विश्व की जनसंख्या लगभग 8.2 अरब के आस-पास है। यह संख्या 2016 में लगभग 7.3 अरब के आस-पास थी। संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम के अनुसार यह बहुत तेजी से बढ़ रही है। प्रतिवर्ष इसमें 8.3 करोड़ या 1.1% की दर से बढ़ती जा रही है अगर विश्व की जनसंख्या इसी रफ्तार से बढ़ती रही तो 2030 तक 8.6 अरब तक तक हो जायेगी और 2050 तक 9.8 अरब तक हो जायेगी, 2100 तक 11.2 अरब तक हो सकती है। (World Population day 2021 in Hindi )

भारत की जनसंख्या वृद्धि के कारण (Reasons for India’s population growth)

कहा जाता है कि किसी भी चीज की अति बुरी होती है। फिर चाहे वह किसी देश आर्थिक समस्या हो या जनसंख्या की समस्या दोनों ही किसी देश के लिए घातक होती है। अगर हम बात भारत की करते है तो भारत की जनसंख्या का अंदाजा इस बात से कर सकते है कि भारत की जनसंख्या विश्व की दूसरे स्थान पर है। कहा जा रहा है कि वह दिन दूर नहीं है जब भारत चीन को पीछे छोड़ कर दुनिया की सबसे बड़ी आबादी वाला देश बन जायेगा।

World Population day 2021 in Hindi

भारत में बढ़ती आबादी का मुख्य कारण लोगों में अशिक्षा और अंधविश्वास है। कुछ लोग अपने परिवार को धन मानते है और कहते है कि अगर घर में लोग ज्यादा होंगे तो घर की आमदनी भी ज्यादा होगी। किन्तु ऐसा नहीं कि सभी लोग अच्छी शिक्षा और अच्छी नौकरी प्राप्त कर सके। जितने लोग होंगे उतना ज्यादा खर्च भी बढ़ेगा। जैसे कि किसी माता-पिता के 5 बच्चे है तो क्या वे अपने सभी बच्चे को अच्छी शिक्षा या सुविधा दे सके। लेकिन इसके विपरीत किसी माता-पिता के एक या दो बच्चे हो तो वह अपने बच्चे की अच्छी परवरिश कर सकते है। और उन्हें अच्छी शिक्षा भी दे सकते है।

भारत में अंधविश्वास इतना ज्यादा है कि लोग बच्चे को भगवान की देन मानते है, किन्तु अगर ये लोग शिक्षित हो तो इन्हें इसकी सच्चाई का पता चल सके। अगर हम इसे भगवान की देन न समझकर जनसंख्या नियंत्रण पर कार्य करें तो देश की जनसंख्या नियंत्रित हो सकती है।

जनसंख्या नियंत्रण के उपाय (Population Control Measures)

हमारे देश में कुछ बाते केवल कागजी होती है उन्हें जमीनी स्तर तक लाया ही नहीं जाता है। हमारे देश में सेक्स के बारे में कोई बात नहीं करना चाहते है इस पर कोई चर्चा नहीं की जाती है। और लोग इस बारे में बात करने से कतराते है। भारत सरकार और राज्य सरकार को एक ऐसा कानून लाना चाहिए जिसे न सिर्फ कागज पर हो बल्कि जमीनी स्तर पर हो। जनसंख्या नियंत्रण का बारे में लोगों को जागरूक करें, विज्ञापन निकाले , इस काम के लिए स्थानीय सरकार जैसे ग्राम पंचायतें, ब्लॉक स्तर तथा उच्च अधिकारियों को निर्देश जारी किया जाये। जिससे लोगों में जागरूकता बढ़े।

World Population day 2021 in Hindi

  • भारत सरकार को एक कठोर कानून बनाना चाहिए, कुछ पुराने कानूनों में बदलाव होना चाहिए जैसे कि लड़की की शादी 18 वर्ष से बढ़ाकर 21 वर्ष कर देनी चाहिए। तथा पुरुषों की शादी 21 वर्ष से बढ़ाकर 25 वर्ष कर देनी चाहिए।
  • जिस स्थान या राज्य के किसी भी क्षेत्र में जहां 18 वर्ष से कम उम्र की लड़की की शादी हो रही हो वहां पर नजर रखनी चाहिए तथा जो लोग इस शादी को अंजाम दे रहे है उन्हें कड़ी सज़ा दी जानी चाहिए।
  • परिवार कल्याण जैसी योजनाओं का विज्ञापन हो लोगों को इसके बारे में जानकारी दी जाये।
  • विख्यात लोगों को भी इसमें शामिल किया जाये जिससे लोगों में जागरूकता बढ़े।
  • राज्य सरकारों को ऐसा कानून लाना चाहिए कि जिनके दो से अधिक बच्चे है उन्हें सरकारी सुविधाओं के लाभ से वंचित रखा जायेगा।

भारत के लगभग 12 राज्य ऐसे कानून ला चुके है कि जिनके दो बच्चे से अधिक है उन्हें सरकारी सुविधा नहीं दी जायेगी। उत्तर प्रदेश सरकार भी इस कानून को बहुत जल्द ही लागू कर देगी।

इसे भी पढ़ेः- Zika Virus kya hai | जीका वाइरस क्या है?

इसे भी पढ़ेः- Sara’s Movie Review in Hindi

Related Articles

Leave a Reply

Stay Connected

22,342FansLike
3,029FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

Latest Articles