Sunday, November 28, 2021

Koo App kya hai | कू ऐप क्या है?

Koo App kya hai ? आज आपको हम इस पोस्ट में कू ऐप के बारे में पूरी जानकारी देंगे।

पिछले कुछ दिनों से भारत सरकार और चीन के बीच चल रहे विवाद के चलते भारत सरकार ने भारत में 100 से अधिक चीनी ऐप्स को बंद कर दिया है। जिससे स्वदेशी डेवलपर्स को आगे बढ़ने का मौका मिला, इसके कारण कुछ देशी डेवलपर्स ने स्वदेशी ऐप बनाना शुरू कर दिया, वर्तमान में भारतीय डेवलपर्स ने कई ऐप तैयार किए हैं। इसी बीच भारत सरकार और ट्विटर के बीच बढ़ते विवाद को देखते हुए कू ऐप बनाया गया जो ट्विटर को मात दे रहा है. फिलहाल Koo ऐप में करीब 50 लाख खाते खोले जा चुके हैं। भारत सरकार ने भी इस ऐप की काफी सराहना की है और सभी भारतीयों से कू ऐप का इस्तेमाल करने का आग्रह किया है। ट्विटर की तरह इसमें भी सारे फीचर हैं। पूरी जानकारी के लिए इस पोस्ट को पूरा पढ़ें।

Who is Founder of Koo App? Who is Owner of koo app? कू ऐप के संस्थापन कौन है? Koo App kya hai? किसने बनाया है कू ऐप? कू ऐप कैसे काम करता है? Koo App kaise download kare? इसके फीचर कैसे है? इसका प्रयोग कैसे करे?

Koo App kya hai?

Koo ऐप एक मिनी बॉलिंग या सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म है जिसके जरिए हम अपनी आवाज देश और दुनिया तक पहुंचा सकते हैं। संविधान सबको बोलने की आजादी देता है। लेकिन यह स्वतंत्रता भी सीमित है। यदि यह स्वतंत्रता किसी की मातृभाषा में है, तो यह सोने पर सुहागा जैसा होगा। Koo App के माध्यम से हम आसानी से अपने विचारों को अपनी भाषा में एक दूसरे से संवाद कर सकते हैं।

Koo ऐप एक मिनी ब्लॉगिंग या मैसेजिंग ऐप है, जिसके जरिए आप किसी भी भाषा में ऑडियो, वीडियो, टेक्स्ट भेज सकते हैं। यहां भी, ट्विटर की तरह, यह विभिन्न मुद्दों और विषयों पर अपने विचार व्यक्त करने की स्वतंत्रता देता है। Koo ऐप भी ट्विटर की तरह भारतीय वर्जन में काम करता है। Kooऐप के जरिए आपको देश की अलग-अलग भाषाओं में मैसेज भेजने की आजादी है। लोगों को एक ही भाषा और बोली बोलने में मदद करता है।

स्वदेशी अपनाओ और भारत को आत्मनिर्भर बनाओ। Koo App इसका जीता जागता उदाहरण है।

Koo ऐप इस समय काफी चर्चा में है। चर्चा में यह और भी महत्वपूर्ण हो जाता है जब देश के प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने मन की बात कार्यक्रम में बोलते हैं। भारत के दूरसंचार मंत्री श्री रविशंकर ने भी इस ऐप के बारे में सोशल मीडिया पर जानकारी दी है। और देश के सभी लोगों को इस स्वदेशी ऐप का उपयोग करने की सलाह भी दी गई है।

हाल ही में सोशल मीडिया कॉन्टेस्ट कराया गया था जिसमें Koo App ने 2nd prize जीतकर काफी चर्चा में रहा। यह MyGov और Niti Aayog द्वारा Aatmanirbhar App Challenge कॉन्टेस्ट कराया गया था। इस सोशल मीडिया को भारत के कई नामी और मशहूर हस्तीयों ने ज्वाइन करना शुरू कर दिया है। वर्तमान समय में लगभग 50 लाख लोग इस सोशल मीडिया ऐप का प्रयोग कर रहे हैं। सबसे पहले देश के केंद्रीय कानून मंत्री श्री रविशंकर प्रसाद जी और रेल मंत्री पीयूष गोयल जी ने अपना Account बनाया।

How many languages Koo App support? कू ऐप पर कितनी भाषा है?

वर्तमान में आप कू ऐप पर 8 भाषाओं में संवाद कर सकते हैं :- हिंदी, कन्नड़, तमिल, तेलुगु, मराठी, बंगाली, असमिया, अंग्रेजी भाषा। भविष्य में 10 और भाषाएं आने वाली हैं। ये भाषाएं हैं:- गुजराती, कश्मीरी, कोकंडी, मलयालम, मणिपुरी, नेपाली, उड़िया, पंजाबी और उर्दू को जोड़ा जाएगा। और तकनीकी टीम कुछ विदेशी भाषाओं को जोड़ने के लिए काम कर रही है।

Koo app Supports 8 languages (currently)

  • English
  • Hindi
  • Kannada
  • Telugu
  • Marathi
  • Tamil
  • Bangla
  • Assamese

कू ऐप के Tag Line बहुत सोच समझ कर रखा गया हैः “Koo App is the Voice of India in Indian Languages”

Who is Founder of Koo App? Who is Owner of koo app?

कू ऐप के संस्थापक कौन हैं? यह ऐप और मिनी ब्लॉगिंग बैंगलोर में “भारत की सिलिकॉन वैली” के दो भारतीय युवाओं द्वारा विकसित की गई है। जिनके नाम Aprameya Radhakrishna और Mayank Bidavatka है।

Koo App CEO is – Aprameya Radhakrishna

Koo App kya hai
Koo App ka CEO

Koo App के फीचर क्या क्या है? Koo App क्या क्या कर सकते है?

आप ट्विटर की तरह Koo ऐप का इस्तेमाल कर सकते हैं।
कू एप पर आपको हर तरह की ब्रेकिंग न्यूज और ट्रेंडिंग टॉपिक मिल जाएंगे।
आप इस मंच पर अपनी राय या विचार साझा कर सकते हैं।
कू एप पर आप किसी भी तरह की पोस्ट, वीडियो और फोटो शेयर कर सकते हैं।
समाचार पत्र, पत्रकार, खिलाड़ी, अभिनेत्री या अभिनेता राजनेताओं का अनुसरण कर सकते हैं।
आप कू एप पर 400 पत्र पोस्ट कर सकते हैं।
इसमें DM की सुविधा भी दी गई है, जिससे आप अपने दोस्त से चैट कर सकते हैं।

Koo App कैसे Download करें?

अगर आप कू ऐप का प्रयोग करना चाहते है तो सबसे पहले आप के पास android फोन होना चाहिए। उसके बाद आप अपने फोन में Google Play store पर जाकर डाउनलोड कर सकते है।

यदि आप i Phone user है तो आप को Apple App store से डाउनलोड कर सकते है। यदि आप लैपटॉप या कम्प्यूटर में डाउनलोड करना चाहते है तो आप Web Version का प्रयोग कर सकते है।

Koo App का प्रयोग कैसे करें?

अगर आप Twitter ऐप का प्रयोग किया हैं। तो उसी प्रकार इसका भी Use कर सकते है कू ऐप ठीक Twitter की तरह काम करता है। कू ऐप को डाउनलोड करने के बाद Sign Up पर क्लिक करें, उसके बाद Mobile no Email Id से रजिस्टर करना होगा।

उनके बाद एक OTP मोबाइल नम्बर पर आयेगा, OTP दर्ज करने के बाद आप का अकांउट बन जायेगा।

अब आपको अपने फोन के दाहिने ऊपर साइड में सेटिंग में जाकर अपनी Profile Edit करने के लिए हिन्दी या इंग्लिश भाषा का चयन कर सकते है। उसके बाद आप अपनी भाषा में Profile Edit कर सकते है उसके बाद अपना फोटो, पूरा नाम, ई मेल इत्यादि जानकारी डालकर सेव कर दे।

Koo App पर पोस्ट कैसे करें?

एक बार कू ऐप पर अकाउंट बन गया तो पोस्ट करना बहुत आसानी से पोस्ट कर सकते हो। पोस्ट करने के लिए +कू सिंबल पर क्लिक करें। उसके बाद अपना पोस्ट लिखकर पोस्ट कर सकते है। इस क्लिक करने के बाद Audio, Video का भी Option दिया गया है आप इसी भी पोस्ट कर सकते है। यदि आप को किसी के पोस्ट पर कमेंट भी कर सकते है। पोस्ट करते समय # हैसटैग का प्रयोग कर सकते है। #हैजटैग से Reach बढ़ जाता है।

आप इस प्लेटफार्म से किसी भी तरह के (लीगल) पोस्ट करने की आजादी देता है। जिस प्रकार से आप Twitter पर पोस्ट करते थे।

क्या भारत से Twitter को बन्द कर देना चाहिए? Should Twitter be banned from India?

भारत सरकार और Twitter के बीच चलते विवाद के कारण Twitter को भारत में बन्द कर देना चाहिए। और Twitter की जगह कू ऐप को लाना चाहिए। क्या आप इस तरह के निर्णय से सहमत है?

Koo ऐप एक स्वदेशी ऐप है, हम सभी भारतीयों को इसका इस्तेमाल करना चाहिए, इससे भारत आत्मनिर्भर बनेगा। लेकिन अगर आप ट्विटर को बंद करके Koo ऐप का प्रचार करते हैं तो यह पूरी तरह से सही नहीं है क्योंकि Koo ऐप का इस्तेमाल सिर्फ भारतीय ही करते हैं। जबकि ट्विटर का इस्तेमाल पूरी दुनिया करती है। अगर कल भारत सरकार ने आपकी नहीं सुनी तो आप क्या करेंगे? इसलिए किसी भी चीज का एकाधिकार देश के लिए ठीक नहीं है। इसलिए Twitter को देश से बंद नहीं करना चाहिए।

निष्कर्ष :(Conclusion):-

दोस्तों इस पोस्ट के माध्यम से हमने आपको Koo ऐप के बारे में पूरी जानकारी देने की कोशिश की है। मेरा सुझाव है कि आप भारत में ट्विटर के विकल्प के रूप में इस भारतीय सोशल मीडिया कू ऐप का उपयोग करें। लेकिन एकाधिकार के रूप में नहीं होना चाहिए।

धन्यवाद।

FAQ’s

Q: Koo App kya hai?

Ans: Koo ऐप एक मिनी बॉलिंग या सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म है जिसके जरिए हम अपनी आवाज देश और दुनिया तक पहुंचा सकते हैं।यह Twitter की तरह काम करता है।

Q: कौन है Founder और owner Koo App का ?

Ans: Aprameya Radhakrishna और Mayank Bidavatka है?

Sirisha Bandla: भारत की बेटी एक बार फिर रचने जा रही है इतिहासः सिरिशा बांदला

Related Articles

Leave a Reply

Stay Connected

22,342FansLike
3,029FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

Latest Articles