Ramayan के रावण Arvind Trivedi का निधन , लम्बे समय से बीमार चल रहे थे।

Ramayan (Arvind Trivedi): रामानंद सागर द्वारा निर्देशित सबसे लोकप्रिय पौराणिक सीरियल रामायण में रावण का किरदार करने वाले अरविन्द त्रिवेदी का निधन हो गया, उनका 83 साल की उम्र में निधन हो गया। मंगलवार देर रात अरविन्द त्रिवेदी (Arvind Trivedi) को हार्टअटैक आया जिससे उनका निधन हो गया।

Read Also:- Sirisha Bandla Biography in hindi, Parents, Husband, सिरीशा बंदला की आत्मकथा

Ramayana (Arvind Trivedi)

अरविन्द त्रिवेदी का जन्म 8 नवम्बर 1938 को मध्य प्रदेश के उज्जैन में हुआ। उनके करियर की शुरुआत गुजराती रंगमंच से हुई, अरविन्द त्रिवेदी के बड़े उपेद्र त्रिवेदी गुजराती सिनेमा में काफी चर्चित कलाकार थे। वे काफी फिल्मों में अभिनय कर चुक थे। जिसके बाद अरविन्द त्रिवेदी को घर-घर में सब के दिलों में राज करने वाला धारा वाहिक सीरियल रामायण में रावण का किरदार मिला जिसे काफी अच्छे से प्रदर्शित किया और सबके दिलों में जगह बनायी। अरविन्द त्रिवेदी की मृत्यु 5 अक्टूबर 2021 को उनके आवास कांदिवली स्थित घर में हुई।

अरविन्द त्रिवेदी की निधन होने की जानकारी उनके भतीजे कौस्तुभ त्रिवेदी ने दी। कहा कि आज रात (5 अक्टूबर 2021) को निधन हो गया। बताया कि चाचाजी काफी दिनों से बीमार चल रहे थे। उन्हे दो-तीन बार अस्पताल में भर्ती किया जा चुका था। निधन होने के एक महीने पहले अस्पताल से घर वापस लौटे थे। मंगलवार देर रात दिल का दौरा पड़ने से उनका निधन हो गया।

कई फिल्मों-सीरियल में किया काम

अरविन्द त्रिवेदी रामायण के अतिरिक्त कई फिल्मों में काम किया है। ‘विक्रम और बेताल’ के अलावा कई और हिंदी सीरियल्स और फिल्मों में अरविंद का शानदार अभिनय देखने को मिला। लेकिन रामानंद सागर द्वारा निर्देशित पौराणिक धारावाहिक सीरियल रामायण में रावण के किरदार से उन्हें अलग पहचान मिली। उन्होंने ने 300 से अधिक गुजराती और हिन्दी फिल्मों में काम किया।

बीजेपी से जीता चुनाव

बता दे, रामायण में किरदार करने के बाद कई और सीरियल में काम करने के बाद अरविंद त्रिवेदी बीजेपी में शामिल हो गये, और 1991 में उन्हें गुजरात के साबरकांठा से बीजेपी के टिकट पर चुनाव लड़ा। उन्होंने चुनाव भी जीता, और 1991 से 1996 तक सांसद भी रहे।

Read Also:-

Happy Navaratri 2021 | नवरात्रि शुभ मुहूर्त 2021, Navratri Shubh Muhurat

International Animal day in Hindi | अन्तर्राष्ट्रीय पशु दिवस 2021, विश्व पशु दिवस क्यों मनाया जाता है?

Experienced Content Writer with a demonstrated history of working in the education management industry. Skilled in Analytical Skills, Hindi, Web Content Writing, Strategy, and Training. Strong media and communication professional with a B.sc Maths focused in Communication and Media Studies from Dr. Ram Manohar Lohia Awadh University, Faizabad.

Related Articles

Leave a Reply

Stay Connected

22,342FansLike
3,333FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

Latest Articles