Shaheed Diwas: राष्ट्रवादी महात्मा गाँधी की गोली मार कर हत्या कर दी गयी थी।

Shaheed Diwas: महात्मा गाँधी की आज पुण्यतिथि है। यानि कि 30 जनवरी 1948 को संसद भवन की सीड़ियाँ चढ़ रहे थे। तभी उनका अंगरक्षक नाथूराम घोडसे ने गोली मार कर हत्या कर दी थी। राहुल गाँधी ने ट्वीट कर श्रद्धांजलि दी।

ये भी पढ़ेः- Happy Vasant Panchami 2022: हैप्पी वसंत पंचमी, बसंत पंचमी की हार्दिक शुभकामनाएं

Shaheed Diwas

महात्मा गाँधी जी की आज पुण्यतिथि मनाई जा रही है। पीएम मोदी और कई नेता आज राजघाट पर श्रद्धांजलि दी जायेगी। महात्मा गाँधी की पुण्यतिथि पर कांग्रेस के नेता ट्वीट कर एक बार फिर सियासी गरम हो गयी है। राहुल ने ट्वीट में लिखा है ‘एक हिंदुत्ववादी ने गांधी जी को गोली मारी थी। सब हिंदुत्ववादियों को लगता है कि गांधी जी नहीं रहे। जहां सत्य है, वहां आज भी बापू ज़िंदा हैं!’ यह पहली बार नहीं जब राहुल गाँधी ने हिंदुत्ववाद को लेकर चर्चा में रहे हो।

महात्मा गाँधी की 74 पुण्यतिथि मना रहा देश

स्वतंत्रता दिवस के महान नायक मोहनदास कर्मचन्द गाँधी (महात्मा गाँधी) की आज 74वीं पुण्यतिथि मनायी जा रही है। महात्मा गाँधी की मृत्यु 30 जनवरी 1948 को नाथुराम घोडसे द्वारा गोली मार कर हत्या कर दी गयी थी। इस अवसर पर सभी बड़े नेता आज राजघाट पर पहुंचकर श्रद्धांजलि देंगे। महात्मा गाँधी को योगदान देश सदियों तक याद करेगा। । उनके आदर्शों, अहिंसा की प्रेरणा, सत्य की ताकत ने अंग्रेजों को भी झुकने को मजबूर कर दिया। उनके इसी योगदान के कारण गांधीजी आज महात्मा गांधी के नाम से जाने जाते हैं।

महात्मा गाँधी की हत्या कब हुई थी?

बाद में 30 जनवरी, 1948 को नई दिल्ली के बिड़ला भवन में नाथूराम गोडसे द्वारा महात्मा गांधी की हत्या कर दी गई थी। अहिंसा का संदेश देने वाले इस महान व्यक्तित्व के जीवन के अंत के बाद देशवासी गांधीजी को राष्ट्रपिता मानते है।

Shaheed Diwas

सुभाषचन्द्र बोस ने पहली बार राष्ट्रपिता कहा।

सुभाषचन्द्र बोस और महात्मा गाँधी जी के बीच 1940 में कांग्रेस के अध्यक्ष पद को लेकर मतभेद हो गया था। इस मतभेद के चलते सुभाषचन्द्र बोस देश छोड़कर चले गये। और सबसे पहली बार नेताजी ने ही 6 जुलाई 1944 को रंगून रेडियो स्टेशन से दिए गए अपने भाषण में गांधीजी को राष्ट्रपिता कहकर संबोधित किया था। नेता जी आजाद हिन्द फौज के संस्थापक थे। अपने भाषण के अंत में सुभाष चंद्र बोस ने कहा था कि ‘हमारे राष्ट्रपिता, भारत की आजादी की पवित्र लड़ाई में मैं आपके आशीर्वाद और शुभकामनाओं की कामना कर रहा हूं।’

ये भी पढ़ेः-

General Budget 2022-2023: बजट से पहले नहीं होगा हलवा समारोह, अब हलवा के स्थान पर मिठाई दी जायेगी।

World Cancer Day 2022: क्यों मनाया जाता है विश्व कैंसर दिवस, क्या है लक्षण

T-20 World Cup 2022 Schedule| 23 अक्टूबर को भारत और पाकिस्तान का पहला मुकाबला

Experienced Content Writer with a demonstrated history of working in the education management industry. Skilled in Analytical Skills, Hindi, Web Content Writing, Strategy, and Training. Strong media and communication professional with a B.sc Maths focused in Communication and Media Studies from Dr. Ram Manohar Lohia Awadh University, Faizabad.

Related Articles

Leave a Reply

Stay Connected

22,342FansLike
3,319FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

Latest Articles